rasaswadan class 12 maharashtra board


rasaswadan class 12 Maharashtra board

१) नवनिर्माण

कवि: त्रिलोचन

पसंद की पंक्तियां:

सूत्र यह तोड़ नहीं सकते हैं,

तोड़कर जोड़ नहीं सकते हैं।

व्योम में जाएँ, कहीं भी उड़ जाएँ,

भूमि को छोड़ नहीं सकते हैं।

 

पसंद आने का कारण:

इन पंक्तियों के द्वारा कवि कहते हैं की ये चीज कभी नही भूलनी चाहिए की हमारी जड़े क्या है? हमारा स्वभाव और हम जैसे हैं वो सचाई कामयाबी की ऊंचाई पाने के बाद दिखावे के लिए भी नही बदलने चाहिए। हमे उनलोगो को भी नही भूलना चाहिए जो हमारी असलफला के समय भी हमारे साथ खड़े थे।

 

केंद्रीय भाव :

प्रस्तुत कविता हमे संघर्ष की जीवन में आवश्यकता को समझती हैं और बताती हैं की जीवन की मुश्किल का सामना कैसे बिना डरे करते रहना हैं। जीवन में निर्बलता,अत्याचार और विषमता पर विजय पाने के लिए कवि ताकत और हिम्मत इक्ट्ठा करने के लिएं लोगो को समझाते हैं।


३) सच हम नहीं; सच तुम नहीं

कवि : डॉ. जगदीश गुप्त 

पसंद की पंक्तियां:

अपने हृदय का सत्य,

अपने आप हमको खोजना।

अपने नयन का नीर,

अपने आप हमको पोंछना।

 

पसंद आने का कारण :

इन पंक्तियों के द्वारा कवि कहते हैं की खुद की सच्चाई हमे खुद खोजनी होती हैं। हम कौन हैं?हमारे जीवन का लक्ष्य क्या है? ये सब कुछ हमे खुद ही ढूंढना होता हैं।

इसके साथ ही हम अगर अपने लक्ष को जान ले,तो उसकी लक्ष्य प्राप्ति में मिलने वाली असफलता के दुखो को भी खुद ही सहना होता हैं।

 

केंद्रीय भाव:

प्रस्तुत कविता जीवन में निरंतर आगे बढ़ते रहने की सीख देते है। रूकावटे तो आयेंगे बस बिना डरे आगे बढ़ते रहो और सफलता को तुम पा लोगे।


३) पेड़ होने का अर्थ

कवि: डॉ. मुकेश गौतम

पसंद की पंक्तियां:

आदमी कितना भी बड़ा क्यों न हो जाए,

वह एक पेड़ जितना बड़ा कभी नहीं हो सकता

या यूँ कहूँ कि-

आदमी सिर्फ आदमी है

वह पेड़ नहीं हो सकता !

 

पसंद आने का कारण :

 

केंद्रीय भाव:

 

 

 

COMMENTS

Post your Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

twenty + two =